Narendra Modi History in Hindi नरेन्द्र मोदी का जीवन परिचय

हेलो दोस्तों आज हम आपके Narendra Modi के बारे में बहुत सारी बातें बातयेंगे ताकि आप अपने देश के प्रधानमंत्री को अच्छे से जान सको। इस आर्टिकल में हम आपको उनके बचपन से जवानी तक का सफर और एक चाय वाला से प्रधानमंत्री तक का सफर कैसे तय किया उसके बारे में भी बहुत सारी जानकारी देंगे। इस तरह मै आपको नरेन्द्र मोदी का जीवन परिचय बता रहे है।आईये पढ़ते है Narendra Modi History in Hindi

 

Narendra Modi कौन है

श्री नरेन्द्र दामोदर दास मोदी स्वतंत्र भारत के 14 वे तथा वर्तमान प्रधानमंत्री हैं। भारतवर्ष के राष्ट्रपति श्री प्रणव मुखर्जी ने 26 मई 2014 को भारत के नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री के रूप में उन्हें शपथ दिलाई। इस पद पर आसीन होने वाले स्वतंत्र भारत में जन्म लेने वाले पहले व्यक्ति हैं।

नरेन्द्र मोदी वाराणसी से सांसद हैं। नरेन्द्र मोदी 2001 से 2014 तक गुजरात के मुख्यमंत्री रह चुके हैं और मोदी जी भारतीय और वे भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के भी सदस्य हैं। नरेंद्र मोदी पूरी तरह से शाकाहारी हैं।

 

नरेन्द्र मोदी का बचपन और जवानी के दिन।

नरेन्द्र मोदी का जन्म 17 सितंबर, 1950 में तत्कालीन बॉम्बे राज्य के महेसाना जिला स्थित वडनगर नामक स्थान पर हुआ था। इनकी माता जी का नाम हीरोबेन मोदी तथा पिता का नाम श्री दामोदर दास मूलचंद मोदी है।

बचपन में अपने भाई के साथ चाय की एक दुकान चलाते हुए गाँव वडनगर से अपनी स्कूली शिक्षा प्राप्त की। बाद में इन्होंने सन् 1980 में गुजरात विश्वविद्यालय से राजनीति विज्ञान में एम.ए. की परीक्षा उत्तीर्ण की। अपनी स्कूली शिक्षा के दौरान ही उन्हें वाद विवाद तथा नाटक प्रतियोगिताओं में रूचि थी। राजनीति के क्षेत्र में उनकी प्रारम्भ से ही रूचि थी।

 

Also Read:

 

नरेन्द्र मोदी का परिवार

13 वर्ष की आयु में नरेन्द्र की सगाई जसोदा बेन चमनलाल के साथ कर दी गयी और जब उनका विवाह हुआ तब वह सिर्फ 17 वर्ष के थे। फाइनेंशियल एक्सप्रेस की एक खबर के अनुसार पति-पत्नी ने कुछ वर्ष साथ रहकर बिताये। परन्तु कुछ समय के बाद वे दोनों एक दूसरे के लिये अजनबी हो गये

“उन दोनों की शादी जरूर हुई परन्तु वे दोनों एक साथ कभी नहीं रहे। शादी के कुछ बरसों बाद नरेन्द्र मोदी ने घर त्याग दिया और एक प्रकार से उनका वैवाहिक जीवन लगभग समाप्त-सा ही हो गया।”

पिछले चार विधान सभा चुनावों में अपनी वैवाहिक स्थिति पर खामोश रहने के बाद नरेन्द्र मोदी ने कहा कि अविवाहित रहने की जानकारी देकर उन्होंने कोई पाप नहीं किया। नरेन्द्र मोदी के मुताबिक एक शादीशुदा के मुकाबले अविवाहित व्यक्ति भ्रष्टाचार के खिलाफ जोरदार तरीके से लड़ सकता है क्योंकि उसे अपनी पत्नी, परिवार व बालबच्चों की कोई चिन्ता नहीं रहती। हालांकि नरेन्द्र मोदी ने शपथ पत्र प्रस्तुत कर जसोदाबेन को अपनी पत्नी स्वीकार किया है।

Also Read:

नरेन्द्र मोदी का राजनैतिक जीवन

युवावस्था में वह छात्र संगठन ‘अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषदमें सम्मिलित हुए। उन्होंने भ्रष्टाचार विरोधी नव निर्माण आन्दोलन में भाग लिया। एक पूर्णकालिक आयोजन के रूप में कार्य करने के बाद उन्हें भारतीय जनता पार्टी में संगठन का प्रतिनिधि बन गए।

नरेन्द्र मोदी पहली बार अक्तूबर 2001 में गुजरात के मुख्यमंत्री बनें। अपने अच्छे प्रदर्शन के कारण गुजरात की जनता ने लगातार 4 बार 2001 से 2014 तक मुख्यमंत्री चुने गए । सन् 2014 के लोकसभा चुनावों के बाद इन्होंने मुख्यमंत्री का पद त्याग दिया तथा उनके नेतृत्व में अकेले भारतीय जनता पार्टी। ने 282 सीटों पर विजय प्राप्त की। एक सांसद के रूप में उन्होंने उत्तरप्रदेश की सांस्कृतिक नगरी वाराणसी एवं अपने गृहराज्य गुजरात राज्य में वडोदरा क्षेत्र से चुनाव लड़ा तथा दोनों क्षेत्रों से भारी बहुमत से जीत हासिल की। लोगो ने ये कहना शुरू कर दिया की इस बार मोदी की लहर है

श्री नरेंद्र मोदी एक कर्मठसमर्पित तथा दृढ़ निश्चयी व्यक्तित्व के मालिक हैं। ये एक कुशल वक्तालेखक एवं कवि हैं। ये अपने दिन की शुरूआत योग से करते हैं तथा पूर्णतया शाकाहारी जीवन जीते हैं। मुख्यमंत्री के रूप में नरेन्द्र मोदी के शासन काल में गुजरात राज्य एक मॉडल के रूप में उभरकर सामने आया तथा तेजी से विकास की ओर अग्रसर हुआ। श्री नरेंद्र मोदी को अनेक अलंकारों से विभूषित किया जा चुका है जिनमें ‘गुजरात रत्न’ मुख्य है।

वर्तमान समय में देश में सबसे लोकप्रिय नेताओं में से हैं। माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर भी वे सबसे ज्यादा फॉलोअर वाले भारतीय नेता है। टाइम पत्रिका ने मोदी को ‘पर्सन ऑफ द ईयर 2013 के उम्मीदवारों की सूची में शामिल किया है।

मोदी एक दूरदर्शी व्यक्ति हैं। पहली बार किसी प्रधानमंत्री के शपथ ग्रहण समारोह में ‘सार्क राज्यों के सभी प्रतिनिधियों को शामिल किया गया है। प्रधानमंत्री का पदभार संभालते ही उन्होंने कई देशों की यात्राएँ की जिनमें भूटान-यात्रा, नेपाल-यात्रा, जापानयात्रा तथा अमेरिकायात्रा आदि प्रमुख हैं। मोदी ने अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर देश की अर्थव्यवस्था विकसित करने के उद्देश्य से ही ये सब यात्राएँ की तथा अमेरिका से रिश्ते सुधारने के लिए 26 जनवरी 2015 की गणतंत्र दिवस में परेड प्रमुख अतिथि के तौर पर अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा को भी आमंत्रित किया है।

यह कहना गलत न होगा कि मोदी में साहस, संवेदनशीलता तथा दृढ़ निश्चिय कूटकूटकर भरें है तथा भारतवर्ष के सवा सौ करोड़ भारतीयों के सपने तथा आकांक्षाएँ उन्हीं पर टिकी हैं।

Also Read:

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.